Please assign a menu to the primary menu location under menu

Tuesday, December 6, 2022
डेली न्यूज़

माफियाओं का पसंदीदा आशियाना बना नौगांव

Visfot News

जन चर्चा है प्रशासन की कमान भ्रष्ट हाथों में
कार्यवाही से पहले माफियाओं को मिल जाती है सूचना
भ्रष्टाचार के कम जोखिम और अधिक इनाम वाली गतिविधि के साथ राजनैतिक आकाओं को साधने में माहिर अधिकारियों की नस नस में इतना भ्रष्टाचारी खून फैल जाता है कि उन्हें चौतरफा भ्रष्टाचार ही नजर आता है लेकिन हैरत की बात यह है कि सत्ताधारी दल के आकाओं का ऐसे अधिकारियों का आचरण पसंद है यह बात जन चर्चा का विषय बनी हुई है कि स्थानीय प्रशासन की कमान ऐसे ही अधिकारी के हाथों में है जो जमीन घोटाले का लेकर सुर्खियों में रहे हैं

नौगांव नगर की कानून व्यवस्था पूरी तरह पटरी पर आ चुकी है वहीं प्रशासनिक अक्षमता और लम्बे समय से पदस्थ पुलिस कर्मियों के चलते शांति का टापू कहे जाने वाला नगर नौगांव माफियाओं का पसंदीदा आशियाना बन गया है माफिया पूरी तरह पुलिस पर हावी है वही लोगों का कहना है कि जो हाथ पहले से भ्रष्टाचार में रंगे है उनसे क्या उम्मीद की जा सकती है जिसका नतीजा है कि नगर नौगांव माफियाओं की पहली पसंद बन गया है चाहे अवैध उत्खनन हो गांजा हो जुआ हो शराब हो सट्टा हो या फिर अवैध गुटखा सभी का काला कारोबार चरम पर चल रहा है और जिले के उच्च अधिकारी सम्मान दे रहे हैं जबकि हकीकत यह है कि नगर में दिनोंदिन बढ़ रहे संगठित व असंगठित अपराधों ने शांतिप्रिय लोगों की परेशानी बढ़ा दी है

अवैध उत्खनन धड़ल्ले से जारी
प्रदेश की औद्योगिक विकास में अहम भूमिका निभाने वाले खनिज विभाग के अधिकारियों को कोई लेना देना नहीं उनको सिर्फ स्वाहित: से मतलब है जिसका प्रमाण है नगर से सटे ग्रामीण इलाकों में स्थित नदियों को माफिया छलनी कर रहे हैं और प्रशासन का सूचना तंत्र भी माफियाओं के सूचना तंत्र के सामने कुछ भी नहीं सूत्रों से पता चला है कि थाने में लंबे समय से पदस्थ पुलिस कर्मियों के माफियाओं के साथ दोस्ताना रिश्ते बन चुके हैं जो माफियाओं के लिए वरदान साबित हो रहे हैं

अवैध गुटका माफियाओं का कारोबार चरम पर
मध्यप्रदेश में जर्दा युक्त गुटखा की बिक्री पर पूर्ण प्रतिबंध है इस आदेश के मुताबिक तंबाकू युक्त पान मसाला बेचना और बनाना दोनों कानूनी कार्यवाही के दायरे में आता है लेकिन प्रशासन की अक्षमता और पुलिस की शह पर खुलेआम पान मसाला के साथ जर्दा तंबाकू दे रहे हैं वही गुटखा की फैक्ट्री भी चल रही है यकीन ना हो तो गरौली रोड ददरी रोड किंग गुटखा आशा नैगुवा मऊ सानिया चांदोरा सहित महोबा मार्ग इलाके में फैक्ट्रियां संचालित है ऐसा भी नहीं की प्रशासन व पुलिस को जानकारी ना हो लेकिन चंद सिक्कों की खातिर पुलिस व जिम्मेदार अधिकारियों ने आंखें मूंद ली है जिससे युवा पीढ़ी तेजी से इसका सेवन कर जिंदगी के साथ खिलवाड़ कर रही है वही खाद विभाग भी नाकारा साबित नजर आ रहा है जिसका नतीजा है अबेद गुटका माफिया केमिकल मिलाकर लोगों की जिंदगी के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं वही ब्रांडेड घटकों का नकली कारोबार जारी है जो पान दुकानों से लेकर किराना दुकानों तक सप्लाई हो रहा है
दो दशक से बेरोकटोक बिक रहा है गांजा
नगर में स्थित सिविल अस्पताल के पीछे स्थित दुकान से गांजा माफिया पिछले दो दशक से नशे के नाम पर मौत की पुड़िया पूरी जिले में पहुंचाने को लेकर चर्चा में है बल्कि कई गांजा प्रेमियों का कहना है कि रुतबा और रुपए की आड़ में |पर्दे के पीछे से यह कारोबार चलता आ रहा है इतना ही नहीं सूदखोरों की भी चांदी कट रही है जो 10 से 12 परसेंट पर हारे हुये जुआडियो को जुआ खेलने की शर्त पर मोटी रकम देते हैं और लोगों को अपराध की दुनिया में कदम रखने को मजबूर कर रहे हैं लेकिन लंबे समय से पदस्थ पुलिसकर्मियों से दोस्ताना रिश्ते हो जाने से यह कारोबार दिनों दिन फल फूल रहा है

अवैध शराब का कारोबार भी जारी
नगर में उत्तर प्रदेश की सीमा से अवैध शराब की गाड़ियां आ रही हैं और एक दो बार मामले सामने भी आए लेकिन सुविधा शुल्क के चलते धाराएं भी ऐसी लगाई जाती है कि जमानत जल्दी हो जाती है

सट्टा माफियाओं की चांदी
नगर में लंबे समय से चल रहा सट्टा अब आधुनिक टेक्नोलॉजी के दम पर फल फूल रहा है और पुलिस को आधुनिक टेक्नोलॉजी का अनुभव नहीं है जिसका फायदा सट्टा व क्रिकेट सट्टा से जुड़े माफियाओं की चांदी कट रही है समय रहते कार्यवाही नहीं की गई तो यह सब नगर की शांति की व्यवस्था के लिए विकराल समस्या बन सकती है देखना है कि कब जिम्मेदार अधिकारियों की नींद खुलती है

ritish ritishsahu
भाषा चुने »