Please assign a menu to the primary menu location under menu

Saturday, November 26, 2022
खास समाचार

सीएम हाउस पहुचीं मंत्री, सांसदो, विधायको के नाम पर फर्जी नोटशीट कांड

Visfot News

भोपाल, रायसेन, हरदा से पॉच आरोपी गिरफ्तार, शिक्षा विभाग के भृत्य से पॉच हजार मे खरीदी थी विधायक की लेटर हेड की फोटो कॉपी
भोपाल। सीएम हाउस पहुचीं मंत्री, सांसदो, विधायको के नाम पर फर्जी नोटशीट कांड मे विधायक एवं सांसदो की फर्जी नोटशीट और लेटर हेड पर शासकीय कर्मचारियों के ट्रांसफर कराने वाले गिरोह का क्राइम ब्रांच ने भांडाफोड करते हुए पॉच आरोपियों को गिरफतार किया है। शातिर जालसाज विधायक रामपाल की हुबहु नोटशीट और लेटर हेड बनाकर फर्जी सिग्नेचर करते और फिर उसे सीएमओ वल्लभ भोपाल स्थानांतरण की सिफारहश के लिये भेज देते थे। पकडे गये आरोपियो मे शामिल गिरोह का मास्टरमांइड ओर मुख्य आरोपी रामप्रसाद राही है, जिसने पुछताछ मे बताया कि वो पूर्व में विधायक रामपाल के बंगले पर काम करता था, ओर उसके साथी आरोपी लखन लाल धाकड का भी विधायक रामपाल के बंगले पर आना जाना लगा रहता था। वही अन्य दो आरोपी कम्प्यूटर टाइपिंग का काम कर फर्जी लेटरहेड पर ट्रांसफर की फर्जी नोटशीट तैयार करते। मास्टरमांइड रामप्रसाद राही का लडका राहुल राही भोपाल के टीटी नगर थाना इलाके का लिस्टेड गुंडा है, जिसके खिलाफ मारपीट, अडीबाजी एवं अवैध हथियार रखने सहित नो मामले दर्ज है। अधिकारियो ने जानकारी देते हुए बताया कि गिरफ्तार किये गये आरोपियो मे रामप्रसाद राही उर्फ गुप्ताजी पिता हरीदास राही (36) निवासी सुनहरी बाग जवाहर चौक भोपाल, लखनलाल पिता नंदलाल (35) निवासी ग्राम कानीबडा तहसील उदयपुरा जिला रायसेन, रामकृष्ण राजपूत पिता रामसिंह राजपूत (31) निवासी ग्राम रायबोर तहसील टिमरनी जिला हरदा, दशरथ राजपूत पिता दयाराम राजपूत (44) निवासी ग्राम खामापडवा तहसील हरदा जिला हरदा ओर रामगोपाल पाराशर पिता नन्हेवीर पाराशर (54) निवासी मॉडल स्कूल परिसर टीटीनगर भोपाल के नाम शामिल है। गिरोह का सरगना जालसाज रामप्रसाद राही प्रायवेट कुक का काम करता है, जिसका काम फर्जी लेटर हेड तैयार करवाकर फर्जी तरीके से विधायक के साईन करना था। वही लखनलाल प्रायवेट काम करता है, जिसका काम फर्जी लेटरहेड में डिस्पेच नंबर चढाना ओर अपने एकांउट में जिन कर्मचारियो का ट्रासंफर कराना होता उनसे रकम मंगवाना था। आरोपी रामकृष्ण राजपूत, दशरथ राजपूत दोनो कम्प्यूटर ऑपरेटर है, जिनका काम कम्प्यूटर टाइपिंग कर फर्जी लेटर हेड तैयार करना था। वही पांचवे शातिर रामगोपाल पाराशर शिक्षा विभाग में भृत्य है, जिसका काम लेटर हेड की कॉपी अन्य आरोपियो को उपलब्ध कराना था। आला अफसरो ने बताया कि थाना क्राइम ब्रांच भोपाल को सीएम हाउस की ओर से शिकायत करते हुए बताया गया कि सीएमओ कार्यालय वल्लभ भवन भोपाल के कार्यालय से कुछ सांसदो व विधायकों के लेटर हेड पर कई शासकीय कर्मचारियो के ट्रांसफर की नोटशीट सीएमओ वल्लभ भवन भोपाल में आये है, जबकि उन विधायक ओर सांसदों द्वारा ऐसे किसी भी प्रकार के लेटर हेड और नोटशीट जारी नही किये जाने की बात कही है। शिकायत की जॉच मे सामने आया कि सांसद और विधायाकों के लेटर हेड और नोटशीट पर उनके सिग्नेचर फर्जी तीरके करते हुए मुख्यता शिक्षा विभाग के 27, राजस्व विभाग के 2 और चिकित्सा विभाग के 1 शासकीय अधिकारी/कर्मचारियो के ट्रांसफर के लिये धोखाधडी कर फर्जी लेटर हेड तैयार कर भेजा गया है। पुलिस की शुरुआती जांच के दौरान ही दोंनों मुख्य संदेहियों रामप्रसाद राही और लखनलाल के द्वारा शिक्षको से ट्रांसफर के नाम लखन लाल के एसबीआई कें खाते, रामप्रसाद राही द्वारा अपने स्वयं की पत्नी संतोषी राही के यूनियन बैंक के खाते के अलावा दोनो आरोपियो द्वारा अपने पहचान के रामप्रसाद, मोहित जैन के फोन पे नम्बर पर कुल 79 हजार रूपये ट्रांसफर करवाने की बात सामने आई। टीम ने जांच के दौरान उन कर्मचारियों से भी पुछताछ की जिनके ट्रासफर की नोटशीट भेजी गई थी, उन्होने अपने ब्यानो मे संदेही रामप्रसाद राही और उसके साथी लखनलाल दोनो निवासी भोपाल को ट्रान्सफर के लिये आवेदन देने की बात पुलिस टीम को बताई। आगे की जांच के दौरान टीम ने रामप्रसाद राही और उसके साथी लखनलाल को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उन्होने बताया कि उन्होने अपने परिचित रामगोपाल पारासर जो शिक्षा विभाग में भृत्य के पद पर पदस्थ है, ओर पूर्व में मंत्री प्रभूराम चौधरी जी के यहां काम करता था, उसके द्वारा विधायक रामपाल के नाम का एक लेटर हेड की फोटो कॉपी पॉच हजार रूपये में उन्हे दी थी। इसके बाद दोनो जालसाजो ने पॉच हजार मे खरीदी गई नोटशीट की हुबहु लेटरहेड/नोटशीट अपने अन्य परिचित फोटोकॉपी वाले रामकृष्ण राजपूत जिसकी फोटो कापी की दुकान नेहरूनगर में है, और दशराथ राजपूत जिसकी दुकान टीटीनगर में है, उन दोनो से विधायक के फर्जी तरीके से लेटर हेड/नोटशीट तैयार करवाने की बात का खुलासा किया। पुछताछ मे आधार पर पुलिस टीम ने दोनों आरोपियो के कब्जे से विधायक रामपाल के फर्जी खाली लेटर हेड और आवेदन पत्र जप्त किये है। इसके बाद उनकी निशानदेही पर फर्जी लेटर हेड तैयार करने वाले कम्पयुटर आपरेटर रामकृष्ण राजपूत और दशरथ राजपूत को भी हिरासत में लेकर उनके कब्जे से जिन कम्प्युटर एवं प्रिरटर से फर्जी लेटरहेड तैयार कर निकाले गये थें, उन्है भी जप्त कर लिया। मामले मे पुलिस आगे की छानबीन कर रही है।

RAM KUMAR KUSHWAHA
भाषा चुने »