Please assign a menu to the primary menu location under menu

Friday, December 2, 2022
डेली न्यूज़

केंद्र शासित प्रदेशों की विधानसभाओं में 32 रिक्तियां

केंद्र शासित प्रदेशों की विधानसभाओं में 32 रिक्तियांकेंद्र शासित प्रदेशों की विधानसभाओं में 32 रिक्तियां
Visfot News

नई दिल्ली। आयोग ने 3 मई, 2021 के माध्यम से स्थगित मतदान (जो 16 मई, 2021 को होने वाला था) को स्थगित कर दिया था और एनडीएमए/एसडीएमए द्वारा जारी आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 के तहत लॉकडाउन/प्रतिबंधों को ध्यान में रखते हुए ओडिशा के 110-पिपली विधानसभा क्षेत्र (एसी) और पश्चिम बंगाल के 58-जंगीपुर और 56-समसेरगंज एसी में चुनाव की अवधि बढ़ा दी थी। इसके अलावा, महामारी एवं विभिन्न राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों क्षेत्रों के मुख्य निर्वाचन अधिकारियों के सभी महत्वपूर्ण तथ्यों और इनपुट को ध्यान में रखते हुए आयोग ने प्रेस नोट संख्या ईसीआई/पीएन/64/2021 दिनांक 5 मई के माध्यम से विभिन्न राज्यों के उप-चुनावों को स्थगित कर दिया था।

वर्त्तमान में, तीन स्थगित चुनाव (पश्चिम बंगाल में दो और ओडिशा में एक), संसदीय निर्वाचन क्षेत्रों में तीन रिक्तियां और विभिन्न राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों की विधानसभाओं में 32 रिक्तियां मौजूद हैं। विभिन्न राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में उपचुनाव कराने की सम्भावना व वास्तविक स्थिति का आकलन करने के लिए दिनांक 01 सितम्बर, 2021 को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मुख्य सचिवों, स्वास्थ्य और गृह विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों, संबंधित राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के डीजीपी तथा संबंधित राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य निर्वाचन अधिकारियों के साथ एक बैठक आयोजित की गई। संबंधित राज्यों के मुख्य सचिवों/मुख्य निर्वाचन अधिकारियों ने कोविड-19 महामारी, बाढ़ की स्थिति और निकट भविष्य में त्योहारों आदि को देखते हुए अपने राज्यों में उपचुनाव कराने संबंधी इनपुट, अवरोधों, मुद्दों और चुनौतियों को साझा किया। जिन राज्यों में मतदान आयोजित किया जायेगा, उन राज्यों के मुख्य सचिवों ने अपने विचार और इनपुट लिखित में भी भेजे हैं। आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश, मेघालय, राजस्थान, तेलंगाना, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश राज्यों के मुख्य सचिवों और केंद्र शासित प्रदेश दादर व नगर हवेली तथा दमन और दीव के सलाहकारों ने आयोग को बाढ़ की स्थिति, त्योहारों और महामारी से संबंधित बाधाओं से अवगत कराया। उन्होंने सुझाव दिया कि त्योहार के मौसम की समाप्ति के बाद उपचुनाव कराना उचित होगा।

RAM KUMAR KUSHWAHA
भाषा चुने »