Please assign a menu to the primary menu location under menu

Tuesday, May 28, 2024
डेली न्यूज़मध्यप्रदेश

अब पासपोर्ट की तर्ज पर बनेगा ड्राइविंग लाइसेंस

अब पासपोर्ट की तर्ज पर बनेगा ड्राइविंग लाइसेंसअब पासपोर्ट की तर्ज पर बनेगा ड्राइविंग लाइसेंस
Visfot News

भोपाल। अब आप पासपोर्ट की तर्ज पर ड्राइविंग लाइसेंस भी बनवा सकते हैं। परिवहन विभाग ने ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदन करने की व्यवस्था में बदलाव किया है। ऑन लाइन फार्म व दस्तावेज जमा कर सकते हैं, उसके बाद ड्राइविंग टेस्ट, फोटो व इलेक्ट्रोनिक हस्ताक्षर के लिए क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय जाना पड़ेगा। इस व्यवस्था के लागू होने से फार्म भरने झंझट खत्म हो गई है। ऑन लाइन फार्म जमा होने के बाद आरटीओ के हस्ताक्षर के लिए भी चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। परिवहन विभाग की अधिकतर सेवाओं को ऑन लाइन किए जाने का कार्य किया जा रहा है। इससे विभाग की जो सेवाएं वह आसान हो रही हैं। लाइसेंस बनवाने के लिए जो परेशानियों का सामना करना पड़ता है, उससे लोगों को राहत राहत मिल रही है। फेसलेस लर्निंग लाइसेंस सेवा लागू होने से लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आरटीओ जाने की जरूरत नहीं है। आधार के माध्यम से घर बैठे इसको बनवा सकते हैं। लर्निंग लाइसेंस के बाद एक महीने बाद ड्राइविंग लाइसेंस बनता था। ड्राइविगं लाइसेंस बनवाने के लिए मैनुअल फार्म भरना पड़ता था। इसमें काफी समय बेकार होता था, लेकिन अब आन लाइन फार्म भर सकते हैं। प्रदेश में 10 लाख लोग हर साल ड्राइविंग लाइसेंस बनवाते हैं। आरटीओ एसपीएस चौहान का कहना है आन लाइन आवेदन के बाद टेस्ट के लिए आना है।
ऐसे भर सकते हैं फार्म
ड्राइविंग लाइसेंस के लिए डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डॉट परिवहन डॉट जीवोभी डॉट इन पर लॉग इन करना होगा। इस बेवसाइट पर मध्य प्रदेश सिलेक्ट करना होगा। ड्राइविंग लाइसेंस के आइकान पर क्लिक करके उसे खोलना होगा। लर्निंग लाइसेंस का नंबर व डेट आफ बर्थ भरनी होगी। ड्राइविंग लाइसेंस का पूरा फार्म भरा हुआ आएगा। जन्म तिथि से संबंधित दस्तावेज व एड्रेस प्रूफ के दस्तावेज को अटैच कर फार्म जमा करना है। यह प्रक्रिया पूरी होने के बाद फार्म आरटीओ पहुंच जाएगा। उसके बाद आरटीओं में ड्राइविंग टेस्ट, फोटो व हस्ताक्षर करने जाना होगा। दो दिन में अपना लाइसेंस कार्यालय से ले सकते हैं।
अभी यह है व्यवस्था
लर्निंग लाइसेंस बनने के बाद 6 महीने के भीतर ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना होता है। इसके लिए मैनुअल फार्म भरना होता है। दस्तावेज संलग्न करने पड़ते हैं। कार्यालय में दस्तावेज चैक होते हैं। टेस्ट देने के बाद आरटीओ के हस्ताक्षर के लिए भटकना होता है। इसमें काफी समय बर्बाद होता है। कार्यालय में लाइसेंस के दस्तावेज स्कैन करने होते हैं, जिसमें समय लगता है। एक व्यक्ति को लाइसेंस के लिए कार्यालय में औसतन 4 घंटे खराब करने पड़ते हैं। आन लाइन दस्तावेज जमा करके समय को बचाया जा सकता है।
ये सेवाएं भी ऑन लाइन करने का काम जारी
डुप्लीकेट ड्राइविंग लाइसेंस, पता परिवर्तन के कार्य को आन लाइन किया जा रहा है। प्रदेश के लोगों का डेटा स्कैन किया जा रहा है। शीघ्र ही यह व्यवस्था भी आन लाइन की जा रही है। इसके लागू होने से डुप्लीकेट व पता परिवर्तन के लिए भी कार्यालय आने की जरूरत नहीं है। घर बैठे इस लाइसेंस प्राप्त कर सकते हैं।

RAM KUMAR KUSHWAHA
भाषा चुने »