Please assign a menu to the primary menu location under menu

Saturday, November 26, 2022
खास समाचारमध्यप्रदेश

कॉलेज में अब 14 तक जमा होगी फीस

कॉलेज में अब 14 तक जमा होगी फीस

कॉलेज में अब 14 तक जमा होगी फीसकॉलेज में अब 14 तक जमा होगी फीस
Visfot News

भोपाल। मध्यप्रदेश के 1301 सरकारी-प्राइवेट कॉलेजों में अब तक रिकॉर्ड 6 लाख एडमिशन हो चुके हैं। वहीं, 1.10 लाख स्टूडेंट्स वेटिंग में हैं। उच्च शिक्षा विभाग ने एडमिशन फीस जमा करने की तारीख 10 से बढ़ाकर 14 अक्टूबर कर दी है। पिछले शिक्षण सत्र में 5.64 लाख छात्र-छात्राओं ने एडमिशन लिया था। अब तक जितने भी एडमिशन हुए हैं, उनमें 75 प्रतिशत सरकारी कॉलेजों में हुए हैं। सबसे ज्यादा एडमिशन इंदौर में हुए हैं।
पिछले सत्र की तुलना में अबकी बार 36 हजार एडमिशन ज्यादा होने के बावजूद वेटिंग लिस्ट वाले छात्र-छात्राओं का आंकड़ा 1.10 लाख है। इसे लेकर उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा है कि सभी को एडमिशन दिए जाएंगे। वहीं, ग्रास एनरोलमेंट रेशियो बढ़ाने के भी प्रयास किए जा रहे हैं।
7.10 लाख का हो चुका वेरिफिकेशन
प्रदेशभर के सरकारी-प्राइवेट कॉलेजों में अबकी बार यूजी और पीजी में 7.78 लाख स्टूडेंट्स ने रजिस्ट्रेशन कराया है। इनमें से 7.10 लाख स्टूडेंट्स के दस्तावेजों का वेरिफिकेशन हो चुका है। दूसरी ओर रिकॉर्ड 6 लाख स्टूडेंट्स अब तक एडमिशन ले चुके हैं। ऐसे में वेरिफिकेशन वाले 1.10 लाख छात्र-छात्राएं वेटिंग में है। वहीं, रजिस्ट्रेशन की बात करें तो करीब 2.78 लाख स्टूडेंट्स बाकी बचे हैं।
12वीं में 7 लाख स्टूडेंट्स हुए हैं पास
इस साल 12वीं में 7 लाख से अधिक स्टूडेंट्स पास हुए हैं। इनमें सीबीएसई, ओपन बोर्ड, मप्र और संस्कृत बोर्ड के छात्र-छात्राएं शामिल हैं। इनमें से इंजीनियरिंग, मेडिकल, आईटीआई के लिए भी एडमिशन होंगे। बावजूद अबकी बार रजिस्ट्रेशन काफी संख्या में हो चुके हैं। उच्च शिक्षा विभाग के मुताबिक, अबकी बार कोशिश की गई कि सभी को एडमिशन मिलें। इसके लिए कई प्रयास किए गए। ऐसे में रिकॉर्ड एडमिशन हो चुके हैं। खास बात ये है कि इस साल 11 नए कॉलेज खुले हैं। ये सभी ग्रामीण इलाकों में हैं। यहां भी अधिकांश सीटों पर एडमिशन हो चुके हैं।
25 प्रतिशत सीटें बढ़ाई
इस बार उच्च शिक्षा विभाग ने 25 प्रतिशत सीटें भी बढ़ाई हैं। इसके चलते दावा है कि सभी स्टूडेंट्स का कॉलेजों में दाखिला हो जाएगा। वहीं, नए कोर्सेस भी शुरू किए गए हैं। इस बार कॉलेजों में एडमिशन की पूरी प्रोसेस ऑनलाइन हुई हैं। यहां तक कि वेरिफिकेशन भी ऑनलाइन ही किए गए। प्रोफेसरों ने कॉलेज या घरों से छात्र-छात्राओं के दस्तावेजों को वेरिफाइड किया। छात्र-छात्राओं को मोबाइल पर एसएमएस भी भेजे गए।

RAM KUMAR KUSHWAHA
भाषा चुने »