Please assign a menu to the primary menu location under menu

Saturday, November 26, 2022
डेली न्यूज़

सावन तीज पर चौरसिया समाज ने किए कार्यक्रम

Visfot News

छतरपुर। सावन का महीना भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करने और शक्ति साधना के लिए जाना जाता है। सावन तीज का विशेष महत्व है। इस दिन भगवान कृष्ण का झूला लगाया जाता है। चौरसिया समाज की महिला शक्ति ने सावन तीज के अवसर पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए। इस आयोजन के पीछे यह उद्देश्य रहा कि समाज की वे महिलाएं भी बाहर निकलें और अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करें जो किन्हीं कारणों से घरों तक सिमट जाती हैं। प्रतियोगिता में स्थान रखने वालीं महिलाएं सम्मानित की गईं।
चौरसिया समाज की महिला शाखा की मीडिया प्रभारी पूर्वा चौरसिया ने जिलाध्यक्ष ऋतु चौरसिया के हवाले से बताया कि शहर की संस्कार वाटिका में समाज द्वारा सावन तीज का पर्व रखा गया। यह आयोजन कांग्रेस ग्रामीण जिलाध्यक्ष शिवानी चौरसिया की ओर से रखा गया था। समाज की महिलाओं ने बढ़-चढक़र हिस्सा लिया। अंताक्षरी, सावन सुंदरी सहित अन्य प्रतियोगिताएं आयोजित हुईं। प्रतियोगिताओं के माध्यम से महिलाओं को जोडऩे का प्रयास किया गया। आयोजनकर्ता शिवानी चौरसिया ने बताया कि भजन और नृत्यों की प्रस्तुति हुई। महिलाएं हरे रंग की पोषाक में आयीं थीं। मातृ शक्ति ने 16 श्रंगार किया था। कार्यक्रम के दौरान महिलाओं को सुहाग सामग्री भेंट की गई।
मंच से इन महिलाओं का किया गया सम्मान
भजन पर नॉनस्टॉप डांस प्रतियोगिता में प्रथम द्रोपती, द्वितीय सुमन, तृतीय प्रीति और सुलेखा रही। नॉनस्टॉप अंताक्षरी प्रतियोगिता में विजेता प्रीति नरेंद्र चौरसिया रही। सावन सुंदरी प्रतियोगिता में प्रथम सपना, द्वितीय आशिमा, तृतीय प्रीति और सुलेखा रही। वही सबसे अधिक 500 रुपये के नोट रखने वाले कंपटीशन में पुष्पा चौरसिया विजेता रही जिन्हें मंच से पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया।
इसके अलावा डॉ पुष्पा चौरसिया द्वारा वरिष्ठ महिला मंडल की अध्यक्ष रितु चौरसिया एवं युवा मंडल की अध्यक्ष रचना चौरसिया का उत्साह बढ़ाते हुए मंच से शील्ड देकर सम्मानित किया गया साथ ही दोनों अध्यक्षों से यह उम्मीद कि गई की किसी तरीके के आयोजन उनके कार्यकाल में आगे भी बदस्तूर जारी रहेंगे। आयोजन में वरिष्ठ कार्यकारिणी से द्रोपती, हेमवती, कृष्णा, गायत्री (धर्मपाल), गायत्री डॉ. (जेपी),डॉ पुष्पा, ऊषा, मधु,रेखा चौरसिया के अलावा अनेकों महिलाएं मौजूद रही।

RAM KUMAR KUSHWAHA
भाषा चुने »