Please assign a menu to the primary menu location under menu

Tuesday, December 6, 2022
खास समाचारधर्म कर्ममध्यप्रदेश

भगवान राम थे कुशल इंजीनियर, अब पढ़ेगे छात्र

भगवान राम थे कुशल इंजीनियर, अब पढ़ेगे छात्रभगवान राम थे कुशल इंजीनियर, अब पढ़ेगे छात्र
Visfot News

भोपाल। नई शिक्षा नीति 2020 के तहत अब मध्य प्रदेश के कॉलेजों के पाठ्यक्रमों में बदलाव किया जाएगा। नए पाठ्यक्रम के तहत अब बीए के फस्र्ट ईयर के छात्रों को महाभारत, रामचरितमानस, योग और ध्यान के बारे में पढ़ाया जाएगा। नए पाठ्यक्रम के अनुसार श्री रामचरितमानस अप्लाइड फिलॉसफी को वैकल्पिक विषय के रूप में रखा गया है। अंग्रेजी के फाउंडेशन कोर्स में फस्र्ट ईयर के छात्रों को सी राजगोपालचारी की महाभारत की प्रस्तावना पढ़ाई जाएगी। राज्य के शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने कहा कि अंग्रेजी और हिंदी के अलावा, योग और ध्यान को भी तीसरे फाउंडेशन कोर्स के रूप में पेश किया गया है, जिसमें ओम ध्यानÓ और मंत्रों का पाठ शामिल है।
श्री रामचरितमानस के तहत अध्यायों में भारतीय संस्कृति के मूल स्रोतों में आध्यात्मिकता और धर्मÓ जैसे विषय शामिल होंगे। वेदों, उपनिषदों और पुराणों में चार युगÓ; रामायण और श्री रामचरितमानस के बीच अंतरÓ; और दिव्य अस्तित्व का अवतारÓ को भी पढ़ाया जाएगा। संशोधित पाठ्यक्रम के अनुसार, विषय व्यक्तित्व विकास और मजबूत चरित्र के बारे में भी पढ़ाएगा ये भी बताया जाएगा कि श्री राम अपने पिता के कितने आज्ञाकारिता थे।
भागवान राम पर खास फोकस
अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक छात्रों को ये भी बताया जाएगा कि भगवान राम कितने कुशल इंजीनियर थे। उनके द्वारा इंजीनियरिंग का एक अनूठा उदाहरण के रूप में राम सेतु का निर्माणÓ विषय के माध्यम से भगवान राम के इंजीनियरिंग गुणोंÓ के बारे में भी पढ़ाया जाएगा। रामचरितमानस के अलावा, 24 वैकल्पिक विषय हैं, जिनमें मध्य प्रदेश में उर्दू गाने और उर्दू भाषा के बारे में शामिल हैं।
बदलाव से होगा फायदा
मध्य प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव ने कहा कि इन विषयों के जरिए छात्रों को जीवन के मूल्यों के बारे में सिखाने की कोशिश की जाएगी। साथ ही ये उनके व्यक्तित्व को निखारने की कोशिश है। उन्होंने कहा, हम रामचरितमानस और महाभारत से बहुत कुछ सीखते हैं। इससे छात्र सम्मान और मूल्यों के साथ जीवन जीने की प्रेरणा लेंगे। अब, हम सिर्फ छात्रों को शिक्षित नहीं करना चाहते हैं, बल्कि हम उन्हें महान इंसान के रूप में विकसित करना चाहते हैं।

RAM KUMAR KUSHWAHA
भाषा चुने »