Please assign a menu to the primary menu location under menu

Tuesday, December 6, 2022
खास समाचारडेली न्यूज़

तीसरी लहर को कम करने में प्रबंध समिति सजगता बरते: कलेक्टर

तीसरी लहर को कम करने में प्रबंध समिति सजगता बरते: कलेक्टर

तीसरी लहर को कम करने में प्रबंध समिति सजगता बरते: कलेक्टरतीसरी लहर को कम करने में प्रबंध समिति सजगता बरते: कलेक्टर
Visfot News

छतरपुर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोविड की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए जिलों के आपदा प्रबंधन के सदस्यों से सोमवार की शाम को वर्चुअली रूप में चर्चा की। उन्होंने कहा कि कोई यह नहीं माने कि कोविड पर विजय प्राप्त कर ली गई है। पहली लहर के अपेक्षा दूसरी विपदाकारी लहर दबे पांव आई थी। समाज ने दूसरी लहर की भयानक स्थिति को समक्ष में देखा भी है।

कोविड की तीसरी लहर को कम करने के लिए आपदा प्रबंधन समिति के सदस्य जनप्रतिनिधि, शासन और प्रशासन मिलकर कम कर सकते है। इसके लिए समाज के हरेक व्यक्ति को कोविड के दोनों डोज लगवाये। दोनों डोज लगने पर ही कोविड के भयानक संक्रमण का असर कम होगा। इसके साथ ही सामाजिक जीवन में हरेक व्यक्ति मास्क पहने, कोविड गाइडलाइन का पालन करें, हाथों को साफ करते रहे। 26 सितम्बर तक हरेक व्यक्ति को पहला डोज लगाकर पहला सुरक्षित चक्र प्रदान करें। एनआईसी कक्ष छतरपुर में वर्चुअली संवाद कार्यक्रम में कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह, पुलिस अधीक्षक सचिन शर्मा, पूर्व मंत्री श्रीमती ललिता यादव, बड़ामलहरा विधायक प्रदुम्न सिंह लोधी, बीजेपी जिला अध्यक्ष मलखान सिंह, सांसद प्रतिनिधि धीरेन्द्र नायक, विधायक प्रतिनिधि, सीईओ जिला पंचायत ए.बी. सिंह सहित जिला आपदा प्रबंधन समिति के सदस्य एवं अधिकारीगण उपस्थित थे।

शेष बचे लोगों का कोविड टीकाकरण कराने के लिए आपदा प्रबंधन समिति के सदस्य आगे आये। टीकाकरण के लिए 50-50 घरों के लिए 1-1 टोली बनाए। टोली में सर्वसमाज के लोग जनप्रतिनिधि, आपदा प्रबंधन समिति के सदस्य शामिल रहें। कोविड से बचाव के लिए सैंपल लेने में आनाकानी न करें। सर्दी, बुखार मौसमी वायरल बीमारी होने पर अधिक से अधिक टेस्ट कराएं। प्रदेश में 17 सितम्बर तक 7 अक्टूबर तक जन कल्याण और स्वराज से जुड़े कार्यक्रम संचालित होगे। डेंगू से बचाव के लिए जिला अस्पताल में 10 बिस्तर वाला आईसीयू वार्ड बनेंगा। जिन जिलों में टीकाकरण कम हुआ है वहां लापरवाही भारी पड़ेगी। कम टीकाकरण कराने वाले जिले पूरी ताकत से टीकाकरण के लिए एकजुट हो जाए और खोज-खोज शेष बचे टीकाकरण के लिए लाए। टीकाकरण के लिए लोगों को पीले चावल सहित अन्य उपायों के साथ आमंत्रित करें। जो लोग टीकाकरण नहीं करा रहे उन्हें समझाए वह कोविड संक्रमण के वाहक नहीं बने। टीकाकरण नहीं कराने के मामले में उनकी मर्जी नहीं चलेगी।

RAM KUMAR KUSHWAHA
भाषा चुने »