Please assign a menu to the primary menu location under menu

Tuesday, December 6, 2022
डेली न्यूज़धर्म कर्म

आज मनाया जाएगा दशहरा

आज मनाया जाएगा दशहरा

आज मनाया जाएगा दशहराआज मनाया जाएगा दशहरा
Visfot News

छतरपुर। आज जिले भर में बुराई पर अच्छाई की जीत का पर्व दशहरा हर्षोल्लास से मनाया जाएगा। विजयादशमी पर आयोजित होने वाला मुख्य समारोह रात्रि 8 बजे से पं. बाबूराम चतुर्वेदी स्टेडियम में प्रारंभ होगा। रात्रि 9 बजे केन्द्रीय मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते के मुख्य आतिथ्य में रामलीला के मंचन के बाद रावण के 51 फिट ऊंचे पुतले का दहन किया जाएगा। लगभग एक दर्जन कलाकारों के अथक परिश्रम और अन्नपूर्णा रामलीला समिति के प्रयासों से रावण का पुतला बनकर तैयार हो चुका है। इस वर्ष पुतले को चार खण्डों में अलग-अलग पोषाकें पहनाकर आकर्षक बनाया गया है। रावण के पुतले की पोषाक पर 200 मीटर कपड़ा खर्च हुआ है। पुतले का निर्माण शहर में बाईपास रोड के कड़ोरे कुशवाहा, डरू कुशवाहा, झल्लू कुशवाहा, धीरू कुशवाहा, भग्गू कुशवाहा, धर्मपाल रैकवार, रिंकू रैकवार और हनुमत विश्वकर्मा द्वारा किया गया है। रावण दहन के पूर्व प्रतिमाओं के साथ भगवान राम, लक्ष्मण, रावण सहित अन्य झांकियां निकाली जाएंगी। शोभायात्रा स्टेडियम पहुंचने के बाद रामलीला मंचन के साथ रावण दहन कार्यक्रम होगा।
आतिशबाजी रहेगी मुख्य आकर्षण
मां अन्नपूर्णा रामलीला समिति द्वारा तैयार किए जा रहे रावण के पुतले के हाथ, पैर और पेट बांस की लकडिय़ों द्वारा बनाया गया है। वहीं रावण का सिर और तलवार फाइबर व कपड़े का होगा। इस पुतले के सिर, पैर और पेट के अंदर रखी गई आतिशबाजी आग लगते ही चलना शुरू हो जाएगी, जो करीब आधा घंटे तक चलेगी। जिसे देखने के लिए लोग आखिर तक कार्यक्रम स्थल पर मौजूद रहेंगे। कार्यक्रम के दौरान समिति द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराया जाएगा। जिसके आदेश पहले ही जिला प्रशासन ने जारी कर दिए हैं।
विसर्जन के लिए चाक चौबंद की गईं व्यवस्थाएं
विजयादशमी पर्व पर जिले में देवी प्रतिमाओं के विसर्जन हेतु पुलिस प्रशासन द्वारा जिले के जलाशयों पर व्यवस्थाएं की गई हैं। प्रतिमा विसर्जन हेतु शहर के बूढ़ाबांध, जगत सागर तालाब, धसान नदी सहित अन्य छोटे तालाबों पर भी पुलिस तैनात रहेगी ताकि श्रद्धालुओं को प्रतिमाओं के विसर्जन में किसी भी प्रकार की समस्या न हो। वहीं पुलिस ने देवी प्रतिमाएं विसर्जन करने जाने वाले श्रद्धालुओं से अपील की है कि वह नशा आदि करके प्रतिमाएं विसर्जित न करें।

RAM KUMAR KUSHWAHA
भाषा चुने »