Please assign a menu to the primary menu location under menu

Tuesday, December 6, 2022
खास समाचारधर्म कर्म

दीपावली के छह दिन पहले 25 घंटे 57 मिनिट रहेगा खरीदी का महामुहूर्त पुष्य नक्षत्र

दीपावली के छह दिन पहले 25 घंटे 57 मिनिट रहेगा खरीदी का महामुहूर्त पुष्य नक्षत्र

दीपावली के छह दिन पहले 25 घंटे 57 मिनिट रहेगा खरीदी का महामुहूर्त पुष्य नक्षत्रदीपावली के छह दिन पहले 25 घंटे 57 मिनिट रहेगा खरीदी का महामुहूर्त पुष्य नक्षत्र
Visfot News

भोपाल। इस साल धनतेरस के चार और दीपावली के छह दिन पहले खरीदी का महामुहूर्त गुरु पुष्य 28 अक्टूबर को होगा। स्वर्ण आभूषण, भूमि-भवन के साथ चल-अचल संपत्ति की खरीदी के लिए नक्षत्रों का राजा पुष्य 25 घंटे 57 मिनिट रहेगा। गुरु-पुष्य के संयोग को कार्य में सिद्धि देने वाला सर्वार्थ सिद्धि और रवि योग ओर भी खास बना रहा है। ज्योतिर्विद के मुताबिक गुरु पुष्य में की गई खरीदारी चिर स्थायी फल प्रदान करने वाली होती है। इस खास मौके के लिए भोपाल सराफा बाजार को व्यापारियों द्वारा आकर्षक विद्युत सज्जा से सजाया जाएगा।ज्योतिर्विदों के मुताबिक इस दिन सोना-चांदी और भूमि-भवन की खरीदारी विशेष लाभदायक मानी गई है। कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की सप्तमी तिथि पर 28 अक्टूबर गुरुवार को पुष्य नक्षत्र की शुरुआत सुबह 9.41 बजे से होगी। पुष्य नक्षत्र 29 अक्टूबर शुक्रवार को सुबह 11.38 बजे तक रहेगा। 28 को रवियोग सुबह 9.30 बजे तक और सर्वार्थ सिद्धि योग दिवस पर्यंत रहेगा। धनतेरस 2 नवंबर और 4 नवंबर को दीपावली होगी।
श्रेष्ठतम योग में से एक
आचार्य शिवप्रसाद तिवारी के मुताबिक गुरु पुष्य में व्यक्ति अपने लक्षय साधकर जिस भी कार्य का श्रीगणेश करता है उसमें सफलता प्राप्त होती है। 27 नक्षत्रों में से एक पुष्य नक्षत्र को नक्षत्रों का राजा कहा गया है। यह नक्षत्र गुरुवार को आता है तो इसका महत्व कई गुना बढ़ जाता है। इसे श्रेष्ठतम मंगलकारी योग में से एक माना गया है। इस दिन जो नई वस्तु, जमीन-मकान, वाहन, स्वर्ण आभूषण के अलावा नया व्यापार शुरू करते हैं। उन पर देवी महालक्षमी की विशेष कृपा होती है।
खरीदारों से गुलजार होगा बाजार, अच्छी होगी खरीदारी
दीपावली से पहले इस बार गुरु पुष्य का संयोग बना है। अक्सर दीवाली पर बुधवार, रविवार, सोमवार को पुष्य नक्षत्र आता है लेकिन जब भी दीवाली से पहले गुरुवार को पुष्य नक्षत्र आता है तो स्वर्ण आभूषण की अच्छी खरीदारी होती है। देव उठनी ग्यारस से शादी का सीजन भी शुरू होगा। इसके चलते गुरु पुष्य में खरीदारों से बाजार गुलजार होने की पूरी संभावना है। इसके खास मौके के लिए सराफा बाजार को विद्युत सज्जा से सजाया जाएगा।

RAM KUMAR KUSHWAHA
भाषा चुने »