Please assign a menu to the primary menu location under menu

Saturday, November 26, 2022
खास समाचारमध्यप्रदेश

राशन वितरण योजना में पोर्टल बन रहा अड़ंगा

Visfot News

पोर्टल में आने वाली दिक्कतों के कारण दुकानदार और उपभोक्ता दोनों ही परेशान
भोपाल। शासन के राशन में अनेक बार पोर्टल की गड़बड़ी से उपभोक्ताओं को परेशान होना पड़ता है। पोर्टल में आने वाली दिक्कतों के कारण दुकानदार और उपभोक्ता दोनों ही परेशान होते रहते हैं। दुकानदार तो एक-दूसरे से पूछकर दुकान पर ही नहीं आते, लेकिन उपभोक्ताओं को दूर-दूर से आना पड़ता है। जिससे उनमें नाराजगी है। कभी पोर्टल सही चलने लगता है तो कभी गड़बड़ हो जाता है, जिससे राशन वितरण सही तरीके से नहीं हो पा रहा है। राशन की राशन योजना में पोर्टल अड़ंगा बनना कोई नई बात नहीं है। इसी के साथ ही उपभोक्ताओं को राशन के पैकेट की प्रतीक्षा भी हो रही है। जो केंद्र शासन के द्वारा प्रदाय होना है।
केंद्र के राशन का हो रहा इंतजार
जुलाई का आधा माह बीत गया है फिर भी केंद्र शासन की घोषणा वाले अनाज का वितरण नहीं हो रहा है। राशन दुकान वाले उपभोक्ता से राशि मांग रहे हैं तो दोनों में आपस में कहासुनी हो रही है। उपभोक्ताओं का कहना है कि दुकानदार कभी राशन की पात्रता पर्ची मांगते हैं। कभी आधार कार्ड मांगते हैं। कभी हाथ अंगूठा का निशान का मिलान हो जाता है। कभी नहीं होना बता कर उपभोक्ताओं को चलता करते हैं। इस तरह की तमाम झंझटों के बीच गरीब वर्ग को राशन के लिए काफी हुज्जत करनी पड़ रही है। एक उपभोक्ता सुनील संतोरे ने बताया कि जब भी राशन दुकान पर जाते हैं तो कभी अंगूठा नही मिलता कभी सर्वर डाउन रहता है। कभी पोर्टल कार्य नहीं करता है।
दुकानदार भी परेशान होते हैं
राशन दुकान संचालकों ने बताया कि सर्वर नहीं मिलने पर पोर्टल कार्य नहीं कर पाता है। कई बार मशीन परिवार के व्यक्ति का अंगूठा मैच नहीं कर पाती है, इसलिए परिवार के दूसरे सदस्य को बुलाकर अंगूठा लगवाना पड़ता है। ऑनलाइन में इस तरह की परेशानी आती ही है। जिससे उपभोक्ताओं के साथ हमें भी परेशान होना पड़ता है। सर्वर की समस्या नेटवर्किंग के कारण भी होती है। पीओएस मशीन है उसमें भी समस्या आ जाती है।
मशीन बनती है मुसीबत
शासन के द्वारा दुकानदार को जो मशीन दी गई है उस पीओएस मशीन में हितग्राही के अंगूठा निशान नहीं मिलने से अनेक उपभोक्ता परेशान होते हैं। राशनकार्ड धारी और पात्रता पर्ची वाले उपभोक्ता बार बार दुकान के चक्कर काटने को मजबूर होते हैं। एक तो दुकान पर भीड़ रहती है काफी देर बाद नंबर आता है। उसके बाद उन्हें निराश होकर लौटना पड़ता है।
पोर्टल नहीं खुल रहा है
राशन दुकान संचालकों ने बताया कि पोर्टल की समस्या तो आती है। कभी चलता रहता है कभी बंद हो जाता है। इससे हमें भी और राशान लेने आने वाले को भी परेशान होना पड़ता है। केंद्र के राशन पैकेट जैसे ही आ जाएंगे वितरण करना शुरू हो जाएगा।

RAM KUMAR KUSHWAHA
भाषा चुने »