Please assign a menu to the primary menu location under menu

Friday, December 2, 2022
डेली न्यूज़

प्राकृतिक आपदा के प्रकरणों में शिथिलता नही बरते

Visfot News

राजस्व कोर्ट केस में दो दिनों से ज्यादा की तारीख न दे, स्थानांतरण नीति के तहत प्रस्ताव का परीक्षण कर अनुशंसा करे
छतरपुर। कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह ने कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में सोमवार को टीएल की समीक्षा करते हुये कहा कि विभागीय अधिकारी स्थानांतरण नीति के तहत ही प्राप्त हुये प्रस्ताव का अनिवार्य रूप से परीक्षण करे और नियमानुसार किये जाने लायक पात्र प्रस्ताव पर ही रिमार्क लिखते हुये ट्रांसफर की अनुशंसा करे। उन्होंने साफ शब्दों में कहा कि बिना परीक्षण के भेजे गये प्रस्ताव के लिये सबंधित विभागीय अधिकारी के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाएंगी। विभागीय अधिकारियों का निर्देश दिये गये कि नश्ती में अवलोकनार्थ एवं आदेशार्थ नही लिखे अपितु प्रस्तावित विषय एवं बिन्दुओं के संबंध में नियम एवं तथ्थों का हवाला देते हुये क्या कार्यवाही करानी है और सक्षम अधिकारी कौन हैं आदि बातों का उल्लेख करे। कलेक्टर ने ईई-आरईएस को चेतावनी दी कि बिना अनुमति के मुख्यालय से बाहर नही रहे और विभागीय प्रकरणों के संबंध में मुख्यालय से बाहर जाने की स्थिति में जितने दिनों की अनुमति ली गई है उस अवधि में मुख्यालय पर वापस लौटे। उल्लेखनीय है कि ईई-आरईएस शासकीय दायित्व निर्वहन पर गुरूवार एवं शुक्रवार के दिवसों के लिये बाहर गये थे और उन्हें शनिवार सार्वजनिक पर अवकाश दिवस पर मुख्यालय उपस्थित होना था। शनिवार की प्रात: कलेक्ट्रेट के स्टाफ द्वारा उनसे मोबाइल पर हुई चर्चा में सूचित किया गया कि अमुक ग्राम में कलेक्टर द्वारा किये जाने वाले निरीक्षण स्थल पर पहुंचे लेकिन दी गई सूचना के बावजूद ईई-आरईएस निरीक्षण स्थल नही पहुंचे और नही पहुंचने के संबंध में कोई सूचना भी नही दी जाकर निर्देश का पालन न करते हुये अनुशासनहीनता की गई। कलेक्टर ने राजस्व प्रकरणों की समीक्षा में जिले के एसडीएम को निर्देश दिये की कोर्ट केस में दी जाने वाली तारीखों के लिये शासन के नियमों के पालन करे। और लंबी अवधि की तारीख न दे तथा तारीख के लिये दो दिन का वक्त देते हुये अगली तारीख तय करे। कलेक्टर श्री सिंह ने प्राकृतिक आपदा के प्रकरणों में सहायता राशि की समीक्षा करते हुये राजस्व अधिकारियों को निर्देश दिये कि आरबीसी योजना में दी जाने वाली सहायता के प्रकरणों में शिथिलता नही तत्परता बरते जिससे पीडि़त और व्यथित व्यक्ति एवं परिवारों को सहायता राशि का लाभ समय पर मिल सके। उन्होंने कहा कि राजस्व अधिकारी लंबित खनिज राजस्व की वसूली अभियान के रूप में करे। सुकन्या योजना समृद्धि योजना के तहत लोगों को प्रेरित करते हुये खाते खुलवाये। इस योजना में एसडीएम और सीडीपीओ, आईसीडीएस मिलकर कार्य करे। टीएल समीक्षा बैठक में कलेक्ट्रेट स्थित शिकायत शाखा द्वारा समय पर आवेदनों का प्रस्तुत करने और शिथिलता बरतने वाले कर्मचारियों को नोटिस जारी करने के निर्देश दिये गये। कलेक्टर ने विभागीय अधिकारियों को सचेत करते हुये कहा कि व्यवहारवाद के प्रकरणों में समय पर जवाब प्रस्तुत करे और किसी स्थिति में विलंब न करे। सीएम हेल्पलाइन के आवेदनों का संतुष्टीपूर्वक समाधान करे और अपडेटेड जवाब प्रस्तुत करे।

RAM KUMAR KUSHWAHA
भाषा चुने »