Please assign a menu to the primary menu location under menu

Thursday, June 1, 2023
छत्तीसगढ़

देवगांव धान खरीदी प्रभारी धान खरीदी में की जा रही गडबडी

Visfot News

जांजगीर- चाम्पा
जांजगीर जिले के मालखरौदा ब्लॉक अंतर्गत धान खरीदी केंद्र देवगांव के खरीदी प्रभारी के खिलाफ अभी तक कोई कार्रवाई नही हो रही है जिससे किसानों में आक्रोश पनप रहा है।

जीपी राव द्वारा खरीदी केंद्र देवगांव का जांच भी किया गया था इस दौरान किसानों से लिए गए धान को तौल कर देखा गया था उस दौरान 42 किलो मिला था और इतना ही नही सिलाई किए गए बोरी की भी तौल किया गया उसमें से धान का वजन 38 किलो मिला था इस तरह से खरीदी प्रभारी द्वारा सरकारी धान को भी नही बख्शा गया प्रति बोरी 2 किलो की चोरी कर लिया गया , किसानों से धान तौल के बाद बोरियों से धान निकलवाने के लिए मजदूरी में मजदूर भी रखा गया था सोशल मीडिया में धान खरीदी देवगांव में गड़बड़ी व महिलाओं द्वारा धान निकालते हुए वीडियो भी वायरल हुआ था। उसके बावजूद अभी तक उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नही होना समझ से परे हैं।

अधिकारियों के खिलाफ तरह तरह की सवाल उठने लगी है।सरकार ने धान खरीदी में किसी भी प्रकार की कोई गड़बड़ी नही करने , किसानों को किसी भी प्रकार की कोई परेशानी न होने की साफ साफ हिदायत दी है उसके बावजूद भी देवगांव धान खरीदी प्रभारी द्वारा सारी नियमो को दरकिनार कर अपनी पेट भरने के लिए किसानों की सालभर की कमाई में भी कांटे मारते हुए 42 किलो धान लिया गया , अधिक कमाई के चक्कर मे सरकार को भी चुना लगाने में कोई कसर नही छोड़ा सरकारी धान से भी दो- दो किलो धान निकलवा दिया जबकि सरकार के अनुसार किसानों से मात्र 40 किलो वजन धान लेने का आदेश है।

अपना आदेश का ही पालन भूले अधिकारी , दागी कर्मचारियों को नहीं बनाना है खरीदी प्रभारी फिर भी लाखों रुपए गबन करने वाले को बना दिया खरीदी प्रभारी धान खरीदी केंद्रों में व्यापक पैमाने पर मनमानी चल रही है , हैरानी की बात तो यह है कि दागियों व भ्रष्टाचार में संलिप्त रहे उसको ही धान खरीदी प्रभारी बना दिया गया।हैरानी की बात तो यह है कि अधिकारी अपने ही आदेश का पालन नही कर पा रहे हैं , जिससे उनकी कार्यप्रणाली पर सवाल खड़ा हो रहा है।मामला देवगांव धान खरीदी प्रभारी का है जो कि खरीदी प्रभारी गंगाराम कुर्रे के द्वारा पूर्व में लगभग 30 लाख रुपए गबन किया गया था इसके बाद भी दागी को खरीदी प्रभारी बना दिया।

RAM KUMAR KUSHWAHA
भाषा चुने »