Please assign a menu to the primary menu location under menu

Saturday, April 20, 2024
खास समाचार

ओबीसी आरक्षण फिर उमा भारती का विवादित बयान

ओबीसी आरक्षण फिर उमा भारती का विवादित बयान

ओबीसी आरक्षण फिर उमा भारती का विवादित बयानओबीसी आरक्षण फिर उमा भारती का विवादित बयान
Visfot News

भोपाल। सोमवार को इंटरनेट मीडिया पर वायरल वीडियो में प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ओबीसी वर्ग के प्रतिनिधिमंडल से कह रही हैं कि जब तक निजी क्षेत्र में आरक्षण नहीं मिलेगा, तब तक इस वर्ग (ओबीसी) को कुछ नहीं मिलेगा। साध्वी ने कहा ?कि सारा कुछ तो निजी क्षेत्र के हाथ में सौंप दिया गया है। सभी जमीनें निजी हाथों में दी जा रही हैं। 33 फीसद आरक्षण भी रखा रहेगा। उधर, एक अन्य वायरल वीडियो में उमा भारती के बुलावे पर उनके आवास पर पहुंचे ओबीसी के लोगों ने उनसे दो टूक कहा कि हमें न्याय नहीं मिला तो हम भाजपा विधायक, सांसद, मंत्री को गांव में घुसने नहीं देंगे। हमने राजा दिग्विजय सिंह को हटाकर आपको सत्ता सौंपी थी, आपको राजा बनाया था। आप हमारी लड़ाई में हमारा साथ दो। इस पर उमा भारती मुस्कराती दिख रही हैं।

उधर, हाई कोर्ट में ओबीसी आरक्षण की सुनवाई पर नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा कि कोर्ट ने जिन तीन भर्ती याचिकाओं पर स्टे बरकरार रखा है, उन्हें छोड़कर बाकी पर पिछड़ा वर्ग को 27 फीसद आरक्षण जारी रहेगा। यह सरकार की बड़ी जीत है। इधर ओरछा में पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने सोमवार को कहा कि शराब के चलते प्रदेश में जहां अपराधों का ग्राफ बढ़ा है, वहीं महिलाएं भी अपने आपको असुरक्षित महसूस कर रही हैं। जब तक प्रदेश में शराब बंदी नहीं होगी इन पर काबू पाना असंभव है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा स्वयं भी शराबियों से बहुत नफरत करते हैं इसलिए उन्हें पूरी आशा है कि मध्य प्रदेश में शराब बंदी हो जाएगी। उमा भारती ओरछा के रामराजा दरबार में मत्था टेकने के बाद मीडिया से से चर्चा कर रही थीं। बता दे ?कि अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) आरक्षण को लेकर प्रदेश में भाजपा और कांग्रेस के बीच तो आरोप-प्रत्यारोप पहले से ही लगाए ही जा रहे हैं, अब प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री द्वारा इस तरह के बयान ?दिए जाने से मामला और गरमाता जा रहा है। राज्य सरकार पहले ही प्रदेश के अजा-जजा एवं ओबीसी वर्ग को साधने में लगी हुई है ता?कि उनको कांग्रेस के पाले में जाने से रोका जा सके।

RAM KUMAR KUSHWAHA
भाषा चुने »