Please assign a menu to the primary menu location under menu

Saturday, November 26, 2022
खास समाचारडेली न्यूज़

आशिकमिजाज माँ के प्रेमी ने गला दबाकर की थी बेटे की हत्या

Visfot News

छतरपुर। ओरछा रोड थाना क्षेत्र के ग्राम ढिलापुर में 4 जून को एक 12 वर्षीय लड़के सूरज प्रजापति की लाश गांव के ही प्रीतम यादव के कुएं में मिली थी। लड़का अपने घर से 31 मई को लापता हुआ था। लड़के के पिता तुलसीदास प्रजापति के द्वारा इस मामले में गुमशुदगी रिपोर्ट लिखाई गई थी लेकिन जब लड़के की लाश कुएं से बरामद हुई तो मामला हत्या का प्रतीत हुआ था। पुलिस ने सोमवार को इस मामले का खुलासा किया तो कुछ चौकाने वाले तथ्य सामने आए। दरअसल लड़के की हत्या उसकी मां के प्रेमी ने ही गला दबाकर की थी। ये है मामलाओरछा रोड थाना प्रभारी अभिषेक चौबे ने बताया कि जिस कुएं में लड़के की लाश मिली थी उसमें महज एक फिट पानी था। इसके अलावा लड़के का मोबाइल उसकी जेब से अलग दूर पड़ा हुआ था। हालांकि लाश चार दिन पुरानी हो चुकी थी जिसके कारण पीएम रिपोर्ट में बहुत सारी मदद नहंी मिल सकी लेकिन पहले ही दिन से हत्या का संदेह करने लायक सबूत मिल रहे थे तभी एक मुखबिर ने सूचित किया कि मृतक की मां और उसके पिता ईंट भट्टों का काम करते थे। गांव का ही एक व्यक्ति अच्छू कुशवाहा भी यहां काम करता था। इसी दौरान अच्छू कुशवाहा और मृतक की मां के बीच अवैध संबंध निर्मित हो गए जिन्हें मृतक सूरज ने देख लिया था। इसी बात को लेकर सूरज और अच्छू कुशवाहा के बीच विवाद हुआ। 31 मई को पोल खुलने के डर से अच्छू कुशवाहा ने सूरज प्रजापति की गला दबाकर हत्या कर दी और उसके बाद उसे कुएं में फेंक दिया। अच्छू कुशवाहा ने यह बात न तो सूरज की मां को बताई और न ही गांव में किसी और को इसकी भनक लगी। इसके बाद अच्छू सामान्य तरीके से रहने लगा। इस तरह आरोपी तक पहुंची पुलिसपुलिस को घटना स्थल पर मिले सबूत हत्या की तरफ इशारा कर रहे थे। इसी दौरान गांव के ही किसी मुखबिर ने पुलिस को अवैध संबंधों की जानकारी दी। पुलिस ने जब इसकी तस्दीक के लिए अच्छू कुशवाहा को उठाया तो उसने घटना दिनांक को छतरपुर में होने के बयान दिए। इन बयानों में वह झूठा पाया गया। कई बार उसने बयानों को बदला जिसके बाद  पुलिस ने उससे सख्ती से पूछताछ की और आखिरकार वह टूट गया। पुलिस ने उसे धारा 302 के तहत गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। हत्याकाण्ड के खुलासे में एसपी सचिन शर्मा के निर्देशन में सीएसपी लोकेन्द्र सिंह के नेतृत्व में ओरछा रोड थाना प्रभारी अभिषेक चौबे, एएसआई शिवकुमार, प्रधान आरक्षक दाताराम, राजेश बागरी, संजय, हृदेश, प्रमोद आदि ने सराहनीय भूमिका निभाई। 

RAM KUMAR KUSHWAHA
भाषा चुने »