Please assign a menu to the primary menu location under menu

Sunday, September 25, 2022
देश

पहली बार मदरसे में गए RSS चीफ मोहन भागवत, बच्चों पूछा- क्या पढ़ाया जाता है

Visfot News

नई दिल्ली

आरएसएस चीफ मोहन भागवत गुरुवार सुबह दिल्ली के केजी मार्ग पर स्थित मस्जिद पहुंचे और अखिल भारतीय इमाम संगठन के चीफ इमाम उमैर इलियासी से मुलाकात की. इस मुलाकात के दौरान भागवत के साथ गोपाल कृष्ण और आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार भी मौजूद थे. लगभग 40 मिनट तक मुलाकात चली. दिल्ली में मस्जिद में बैठक के बाद मोहन भागवत मदरसे में भी गए. यहां आरएसएस चीफ मोहन भागवत ने आज़ाद मार्किट के एक मदरसे में बच्चों से की मुलाक़ात की. मदरसों की पढ़ाई के बारे में भी जाना. मोहन भागवत पहली बार किसी मदरसे में अचानक पहुंचे थे. बताया जा रहा है क‍ि तजविदुल कुरान मदरसा दिल्ली के आज़ाद मार्केट में मौजूद है, जहां 300 बच्चे पढ़ते हैं.बातचीत के बाद डॉ इमाम उमर अहमद इलियासी ने कहा कि मोहन भागवत इस देश के 'राष्ट्र-पिता' और 'राष्ट्र-ऋषि' हैं।

 

मोहन भागवत ने मस्‍ज‍िद में बैठक के बाद केजी मार्ग स्थित मस्जिद के इमाम उमैर इलियासी के पिता जमील इलियासी के मजार की जियारत भी की. आज जमील इलियासी की बरसी भी है. ज़ियारत के बाद मोहन भागवत ने इमाम के परिवार से मुलाकात भी की और इसके बाद मोहन भागवत दिल्ली की आजाद मार्केट के मदरसे तजवीदुल कुरान भी गए.

इस पूरी मुलाकात और मदरसे में बिताए वक्त को लेकर इमाम उमर इलियासी ने कहा यह परिवारिक मुलाकात भी मेरे नहीं होते पर वह आए थे. मुझे इस बात की खुशी है मोहन भागवत का यहां आना यह संदेश है कि हम सब एक हैं और हमें मिलकर रहना चाहिए. उनके यहां आने से एक अच्छा मैसेज जाएगा. यह मोहब्बत का संदेश है मोहन भागवत ने हिंदू मुसलमान की डीएनए को लेकर जो कहा वह सही कहा है. उन्होंने सबको एक करने की बात कही है. उनकी जिम्मेदारी भी है कि उस सब को साथ लेकर चलें देश की एकता अखंडता बनी रहे और सब मिलजुल कर रहे.

उमर इलियासी ने इसके बाद मोहन भागवत को लेकर मदरसे में गए. वहां 300 बच्चों के साथ उन्होंने बातचीत की. भागवत के वहां जाने से बच्चों को और मदरसे के लोगों को अच्छा लगा. मदरसे में मोहन भागवत के जाने से देश में एक अच्छा पैगाम जाएगा. मोहन भागवत ने बच्चों से कहा क‍ि सब लोग मिलजुल कर रहे और हमारा देश विकास कर रहा है ऊपर जाता है हम सब अपने देश की तरक्की में हिस्सेदार बने. हमारा उनका का प्रयास है देश को आगे लेकर जाएं. हमारा और हर भारतीय का मकसद है.

RAM KUMAR KUSHWAHA
भाषा चुने »