Please assign a menu to the primary menu location under menu

Saturday, April 20, 2024
खास समाचारडेली न्यूज़

चुनावी फायदे के लिए खाद को निवाड़ी जिले में भेजा जा रहा है: आलोक चतुर्वेदी

चुनावी फायदे के लिए खाद को निवाड़ी जिले में भेजा जा रहा है: आलोक चतुर्वेदी

चुनावी फायदे के लिए खाद को निवाड़ी जिले में भेजा जा रहा है: आलोक चतुर्वेदीचुनावी फायदे के लिए खाद को निवाड़ी जिले में भेजा जा रहा है: आलोक चतुर्वेदी
Visfot News

छतरपुर। छतरपुर जिले में पिछले एक सप्ताह से किसानों को खाद संकट से जूझना पड़ रहा है। सोसायटियों और गोदामों में डीएपी, सुपर फास्फेट खाद की बोरियां किसानों को नहीं मिल पा रही हैं। किसानों को लगातार हो रही परेशानी को मुद्दा बनाते हुए शनिवार को कांग्रेस विधायक आलोक चतुर्वेदी, महाराजपुर से कांग्रेस विधायक नीरज दीक्षित, जिलाध्यक्ष लखन पटेल के नेतृत्व में सैकड़ों कांग्रेसी नेताओं ने हंगामा कर दिया। शाम 7 बजे हरपालपुर के रेलवे स्टेशन पर खाद की एक रैक उतरने वाली थी। कांग्रेसियों का आरोप है कि उक्त रैक के अंतर्गत आयी 2700 मीट्रिक टन खाद पर छतरपुर जिले का हक है लेकिन इसे मौखिक आदेश पर चुनावी फायदा लेने के लिए निवाड़ी भेजा जा रहा है। इन्हीं आरोपों के साथ कांग्रेसी नेताओं का काफिला कार्यकर्ताओं और किसानों को लेकर शनिवार की शाम 5 बजे हरपालपुर की ओर रवाना हो गया। पूर्व सूचना पर किए जा रहे इस प्रदर्शन को लेकर पुलिस और प्रशासन काफी सतर्क था इसलिए हरपालपुर से छतरपुर को जोडऩे वाले सभी मार्गों को कई स्तर पर बैरीकेट से रोका गया था। हालांकि कांग्रेस जनप्रतिनिधियों के साथ मौजूद कार्यकर्ताओं ने पुलिस की एक नहीं चलने दी और हल्के फुल्के विरोध के बीच कांग्रेस कार्यकर्ता फोरलेन पर मौजूद पचवारा बैरीकेट व हरपालपुर से 5 किमी दूरी पर बनाए गए दूसरे बैरीकेट को लांघते हुए हरपालपुर पहुंच गए। ट्रेन आने में देरी थी इसलिए कांग्रेस नेताओं ने हरपालपुर के सर्किट हाउस पर पहुंचकर यहां एक छोटी सभा की। इस मौके पर विधायक आलोक चतुर्वेदी ने कहा कि जिला प्रशासन और सरकार मिलीभगत कर छतरपुर के किसानों के साथ दोगला व्यवहार कर रही है। जिले के किसान एक-एक बोरी खाद के लिए परेशान हैं और मौखिक आदेश पर जिले को आवंटित होने वाले खाद को टीकमगढ़ भेजा जा रहा है। इस संबंध में जनप्रतिनिधियों को भी अंधेरे में रखा गया। विधायक नीरज दीक्षित ने कहा कि हम हरपालपुर में रैक के संबंध में जानकारी लेने और किसानों के साथ हो रहे सौतेले व्यवहार का विरोध करने आए हैं। उन्होंने कहा कि प्रशासन और पुलिस ने कार्यकर्ताओं के साथ अभद्र व्यवहार किया। हमारे साथ जनप्रतिनिधि होने के बावजूद ऐसा व्यवहार किया जा रहा है जैसे हम आतंकवादी हों। उन्होंने कहा कि किसानों के साथ अन्याय नहीं होने दिया जाएगा। कांग्रेस जिलाध्यक्ष लखन पटेल ने कहा कि यह सरकार किसान विरोधी है चुनावी फायदे के लिए छतरपुर के किसानों को खाद नहीं उपलब्ध कराया जा रहा है। बोवनी का समय गुजर रहा है ऐसे में किसान वर्ष भर क्या खाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार के इस कदम का विरोध जारी रहेगा।
सड़क पर लगाया जाम, गांधी भजन के साथ किया विरोध
कांग्रेस नेताओं ने ट्रेन आने की सूचना के बाद रेलवे स्टेशन के बाहरी हिस्से में सड़क पर बैठकर धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। यहां नेताओं की उपस्थिति में तमाम कार्यकर्ता गांधी के भजन रघुपति राघव राजाराम को गाते रहे। कुछ देर बाद पुलिस ने इन नेताओं को सड़क से उठाने की कोशिश की तो पुलिसकर्मियों और कार्यकर्ताओं के बीच नोकझोंक शुरू हो गई। नोकझोंक को शांत करने के लिए पुलिस को लाठी उठाकर कुछ कार्यकर्ताओं पर हल्का बल प्रयोग करना पड़ा। काफी देर तक चले हंगामे के बाद पुलिस ने दोनों विधायकों, जिलाध्यक्ष सहित कुछ अन्य नेताओं को गिरफ्तार कर अपनी हिरासत में ले लिया और हंगामे को खत्म करा दिया।
विगत वर्षों की तरह ही मिल रहा खाद का आवंटन: कलेक्टर
जिले में मौजूद खाद संकट पर हो रहे इस हंगामे के बीच जब कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह से चर्चा की गई तो उन्होंने कहा कि शनिवार को 2700 मीट्रिक टन खाद की जो रैक छतरपुर आयी है उसमें से 1055 मीट्रिक टन खाद छतरपुर की सोसायटियों एवं 359 मीट्रिक टन प्राइवेट दुकानदारों के लिए आवंटित है जबकि शेष तकरीब 1200 मीट्रिक टन खाद टीकमगढ़ और निवाड़ी जा रही है। उन्होंने कहा कि किसी तरह का कोई लिखित आदेश या मौखिक आदेश नहीं है कि टीकमगढ़ को छतरपुर का खाद भेजा जा रहा है। उन्होंने कहा कि किसानों को गुमराह होने की जरूरत नहीं है। छतरपुर में 1500 मीट्रिक टन खाद आ चुकी है। तीन दिनों में और खाद आने वाली है। किसी तरह का कोई संकट नहीं है।

RAM KUMAR KUSHWAHA

3 Comments

Comments are closed.

भाषा चुने »