Please assign a menu to the primary menu location under menu

Saturday, April 20, 2024
डेली न्यूज़

केंद्रीय भंडार गृह में चोरी छिपे हो रही कालाबाजारी

Visfot News

नौगांव। नगर के केंद्रीय भंडार गृह में चोरी-छिपे कालाबाजारी का काम तेजी से चल रहा है। भंडार गृह के मैनेजर हरिओम प्रकाश अहिरवार यह कालाबाजारी कर रहे हैं। वे अपनी मर्जी के अनुसार केंद्रीय भंडार गृह चला रहे हैं। यहां पर शासन के नियम-कानूनों को नहीं माना जा रहा। यदि कोई नियम कानून की बात करता है तो मैनेजर हरिओम प्रकाश अहिरवार का कहना होता है कि जहां शिकायत करना है कर लो मेरा कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता मेरी पहुंच भोपाल तक है। अभी हाल में ही 61 नंबर गोदाम से गेहूं चोरी का वीडियो भी वायरल हुआ था। ज्ञात हो कि केंद्रीय भंडारण गृह नौगांव के अंतर्गत 3 गोदाम आते हैं जिसके नंबर क्रमश: 24, 58 और 61 हैं।जानकारी के मुताबिक सेंट्रल वेयर हाउस क्रमांक 61 में रिटायर्ड आर्मी के जवान खूबचंद यादव की बतौर सिक्योरिटी गार्ड ड्यूटी दोपहर 2 बजे से रात्रि 10 बजे तक थी। इसी दौरान मैनेजर हरि ओम प्रकाश अहिरवार ने चोरी से गेहूं बेचा जा रहा था। जब खूबचंद ने मैनेजर से पूछा कि किसकी सहमति से गेहूं बेचा जा रहा है तो मैनेजर उससे भी उलझ गए। खूबचंद ने रजिस्टर पर हस्ताक्षर करने की बात कही तो मैनेजर ने उसे ड्यूटी से हटावने की धमकी दे डाली, इस पूरे घटनाक्रम का किसी ने वीडियो बनाकर वायरल कर दिया। खूबचंद ने बताया कि डीजीआर दिल्ली के टेंडर मुताबिक सेंट्रल वेयर हाउस में केवल रिटायर्ड आर्मी के जवानों को बतौर सिक्योरिटी गार्ड की नियुक्ति किया जाता है लेकिन मैनेजर को यह रास नहीं आ रहा क्योंकि उनकी उपस्थिति में वे मनमानी नहीं कर पा रहे हैं। इससे पूर्व मैनेजर भोपाल के अधिकारियों की मिलीभगत से कुछ निजी लोगों को गोदाम पर रखे हुए थे ताकि गोदाम पर कालाबाजारी कर सकें। जबसे रिटायर आर्मी के जवानों की गोदाम पर ड्यूटी लगी है तबसे मैनेजर कालाबाजारी नहीं कर पा रहे हैं और अब सिक्योरिटी गार्ड्स को बेवजह परेशान किया जा रहा है। मैनेजर ने कई बार सिक्योरिटी गार्ड से कहा कि गोदाम पर रहना है तो उनकी इच्छा अनुसार चलना होगा अन्यथा बाहर निकाल दिया जाएगा। गेहूं चोरी का वीडियो वायरल होने के बाद से मैनेजर हरि ओम प्रकाश अहिरवार रिटायर्ड आर्मी के जवानों पर कई गंभीर आरोप लगा रहे हैं और उन्हें झूठे केस में फंसाने की धमकी दे रहे हैं।

RAM KUMAR KUSHWAHA
भाषा चुने »