Please assign a menu to the primary menu location under menu

Saturday, April 20, 2024
खास समाचारडेली न्यूज़

अधूरी फोरलेन की हो रही पूरी वसूली

Visfot News

छतरपुर। झांसी-खजुराहो फोरलेन निर्माण का कार्य अब भी सौ फीसदी पूरा नहीं हुआ है। छतरपुर जिले के अंतर्गत चल रहे इस प्रोजेक्ट के अंतर्गत बमीठा क्षेत्र के ग्राम बसारी, गंज और बमीठा में ओवरब्रिज का निर्माण अब तक पूरा नहीं हुआ है। इसके बावजूद इस क्षेत्र में टोल प्लाजा को हरी झण्डी मिल गयी है। टोल प्लाजा शुरू हो जाने के कारण यहां से गुजरने वाले लोगों को खराब सड़क होने के बाद भी एक बार चार पहिया वाहन से गुजरने पर 60 रूपए देने पड़ते हैं। वहीं जिले के लोगों के लिए यह राशि 30 रूपए है। फोरलेन पर वक्त से पहले शुरू हुए इस टोल प्लाजा का विरोध भी शुरू हो गया है।
ग्रामीणों ने कहा हमारी सुविधा को देखे प्रशासन
ग्राम देवगांव के समीप एनएचएआई के द्वारा पुष्पा राय कंपनी बनारस को यह टोल प्लाजा ठेके पर दे दिया गया है। कंपनी के द्वारा यहां से गुजरने वाले वाहनों से वसूली भी शुरू कर दी गई है। 23 अगस्त से शुरू हुई इस वसूली से स्थानीय लोग परेशान होने लगे हैं। देवगांव के नजदीकी ग्रामों सलैया, कदवां और खैरी के रहने वाले ग्रामीणों ने बताया कि उन्हें इस टोल प्लाजा से खेत तक जाने का भी पैसा देना पड़ रहा है। ग्राम बड़ेरी की निवासी रंजना चौबे, सचिव द्वारका प्रसाद शर्मा, जगत सिंह बुन्देला, छन्नूलाल पटेल, प्रियंका नीलेश पाण्डेय ने बताया कि हमारे कई गांव ऐसे हैं जहां की जमीनें टोल प्लाजा के दोनों तरफ हंै। ग्राम खैरी के समीप ही एक मात्र पेट्रोल पंप है। गांव के लोगों को कई बार ट्रेक्टर वाहन लेकर खेतों तक जाना पड़ता है अथवा ईधन भराने जाना पड़ता है। जितने बार भी हम निकलते हैं उतने बार टोल प्लाजा पर पैसा मांगा जाता है। लोगों ने कहा कि उनकी खुद की जमीनें इस फोरलेन के लिए अधिग्रहीत की गई हैं जिसका मुआवजा भी अभी तक नहंी मिला लेकिन टोल प्लाजा पर वसूली शुरू कर दी गई है जो कि गलत है।
स्थानीय लोगों को मिले छूट
इन ग्रामीणों ने कहा कि जो ग्रामीण देवगांव टोल प्लाजा के 5 किमी क्षेत्र में निवास करते हैं उन्हें प्रतिदिन आने-जाने पर छूट दी जानी चाहिए। अन्यथा उन्हें महीने में काफी पैसा खर्च करना पड़ेगा। यदि एनएचएआई और टोल प्लाजा संचालित करने वाले ठेकेदार हमारी सुविधा का ध्यान नहीं रखेंगे तो हम सड़क पर उतरकर विरोध करेंगे।

RAM KUMAR KUSHWAHA

3 Comments

Comments are closed.

भाषा चुने »