Please assign a menu to the primary menu location under menu

Tuesday, December 6, 2022
डेली न्यूज़

जिला चिकित्सालय में खोजने से भी नहीं मिल रहे डाक्टर

Visfot News

छतरपुर। सिविल सर्जन डॉ. महेन्द्र गुप्ता के नेतृत्व में संचालित हो रहे जिला अस्पताल की व्यवस्थाएं पिछले दो महीने से बिगडऩे लगी हैं। कोरोना के मरीजों की संख्या गिरने के बाद भी अस्पताल में वायरल बुखार एवं अन्य बीमारियों के मरीज बड़ी संख्या में पहुंच रहे हैं। अस्पताल पहुंचने वाले मरीजों को यहां कई प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। अस्पताल में डॉक्टरों द्वारा ओपीडी के समय में की जा रही लापरवाही और खराब पड़ीं लिफ्ट मरीजों को बेइंतहां परेशान कर रही हैं। विगत रोज जब दो महीने से खराब पड़ी अस्पताल की लिफ्ट व्यवस्था पर मीडिया ने सवाल उठाए तो सोमवार को एक लिफ्ट सुधार दी गई। हालांकि डॉक्टर्स के चेम्बर समय के पहले ही खाली नजर आए।
खोजने से भी नहीं मिल रहे डॉक्टर
राज्य शासन के निर्देश के मुताबिक जिला अस्पताल में नियुक्त डॉक्टर्स को प्रतिदिन ओपीडी के लिए सुबह 8 बजे से एक बजे का समय निर्धारित किया गया है। अस्पताल में ओपीडी के इस समय को लेकर डॉक्टर्स लापरवाह बने हुए हैं। कलेक्टर के निर्देश के बाद भी 90 फीसदी डॉक्टर सुबह समय पर नहीं पहुंचते और दोपहर में एक बजने के पहले ही गायब हो जाते हैं। सोमवार को भी कई चेम्बर खाली नजर आए। डॉक्टरों को खोज रहे मरीज इलाज के लिए परेशान होते रहे।
छोटी-छोटी समस्याओं का समाधान भी नहीं करा पाते भाजपाई
जिला अस्पताल में बिगड़ती व्यवस्थाओं पर कांगे्रस ने तंज कसा है। कांग्रेस के जिला प्रवक्ता अभिलेख खरे ने कहा कि भाजपा की सरकार में नौकरशाही इस तरह हावी है कि आम जनमानस परेशान होता रहता है और इन समस्याओं के निराकरण में भाजपाई शून्य नजर आते हैं। दो महीने से लिफ्ट खराब पड़ी है। डॉक्टर अस्पताल में मौजूद नहीं रहते फिर भी भाजपा के नेताओं और सरकार को जनता की इस परेशानी से फर्क नहीं पड़ रहा।

RAM KUMAR KUSHWAHA
भाषा चुने »