Please assign a menu to the primary menu location under menu

Sunday, September 25, 2022
खास समाचारडेली न्यूज़

रोड शो फ्लाप: मंत्री, विधायक, जिलाध्यक्ष और 40 वार्ड पार्षद प्रत्याशियों के बावजूद भी खाली कुर्सियां

रोड शो फ्लाप: मंत्री, विधायक, जिलाध्यक्ष और 40 वार्ड पार्षद प्रत्याशियों के बावजूद भी खाली कुर्सियां

रोड शो फ्लाप: मंत्री, विधायक, जिलाध्यक्ष और 40 वार्ड पार्षद प्रत्याशियों के बावजूद भी खाली कुर्सियांरोड शो फ्लाप: मंत्री, विधायक, जिलाध्यक्ष और 40 वार्ड पार्षद प्रत्याशियों के बावजूद भी खाली कुर्सियां
Visfot News

छतरपुर। एक समय था जब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मम्मा, को सुनने के लिए लोग आते थे और अब जबरन लाए गए लोग भी नहीं कर रहे पसंद। छतरपुर में शिवराज सिंह चौहान का रोड शो और सभा फ्लाप कैसे हो सकती है जब शहर में जिलाध्यक्ष, मंत्री, विधायक से लेकर 40 वार्डों के पार्षद प्रत्याशी मौजूद थे। अगर एक व्यक्ति 50 लोग भी लाता तो भीड़ उस छोटे से मैदान में समाती नहीं परंतु लगता है लोगों का पार्टी से भरोसा उठ गया। जिनके समर्थन में आए थे शिवराज सिंह उन्हीं ने नहीं किया समर्थन। सीएम की सभा में खाली कुर्सियां, आवारा गौवंश को हांकते पुलिस कर्मी, कई जगह छीना झपटी, घंटों का जाम जिसमें बच्चे, बूढ़े भी फंसे रहे ऐसे में कैसे हो सकती है भाजपा की नैय्या पार। सीएम के आने से भाजपा को फायदा तो कुछ नहीं हुआ परंतु नुकसान भरपूर हो गया। घंटों जाम में फंसे लोग सीएम को कोसते नजर आए। गायों के लिए समर्पित भाजपा ने अपनी ही सभा में स्वयं की पोल खोल दी जब सड़कों पर गौवंश घूम रहा था तो इसका जबाव भी सीएम साहब को देना चाहिए। कि इतनी गौशालाएं बनी हैं क्या ये इंसानों के लिए हैं या फिर गायों के लिए। बहरहाल कुछ भी जो ये पब्लिक है सब जानती है।
पुलिस से हुआ भाजपा नेताओं का विवाद
छत्रसाल चौराहे पर मुख्यमंत्री के स्वागत के लिए तैयार भारतीय जनता पार्टी के कुछ नेताओं का पुलिस के साथ विवाद हो गया। दरअसल छत्रसाल चौक पर भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष पुष्पेन्द्र प्रताप सिंह के द्वारा स्वागत की तैयारियां की गई थीं। उनके कार्यकर्ता हाथों में बैनर लेकर सीएम के रथ के आगे चलने वाले थे लेकिन सब इंस्पेक्टर हेमंत नायक ने सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कार्यकर्ताओं को रस्से के पीछे कर दिया। यह बात भाजपा नेता पुष्पेन्द्र प्रताप सिंह को नागवार गुजरी, उन्होंने मौके पर पहुंचकर पुलिस के अधिकारियों को जमकर खरी-खोटी सुनाईं। कुछ देर के लिए यहां बखेड़ा खड़ा होने लगा। पुष्पेन्द्र प्रताप सिंह ने यह तक कह दिया कि अब आप लोग ही सीएम का स्वागत कर लो। विवाद बढ़ता देख एएसपी विक्रम सिंह, डीएसपी शशांक जैन सहित पुलिस के अधिकारी पुष्पेन्द्र प्रताप सिंह के आगे मान-मनुउव्वल करते दिखे। कुछ देर बाद यहां एसपी सचिन शर्मा भी पहुंचे। उन्होंने मामले को शांत कराया।
आवारा मवेशियों ने खोल दी विकास की पोल
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान लगभग 40 मिनिट तक भाषण देकर जनता को भाजपा कार्यकाल के दौरान किए गए विकास कार्यों की गाथा सुनाते रहे। इसके पूर्व जब वे रोड शो के माध्यम से छत्रसाल चौक से सभा स्थल जा रहे थे तब सड़क पर विचरण करने वाले आवारा मवेशियों ने सरकारी दावों की धज्जियां उड़ा दीं। सीएम के काफिले के लिए पुलिस ने आम जनता को तो सड़क से गायब कर दिया था लेकिन प्रशासन मवेशियों को हटाना भूल गया। मुख्यमंत्री के रथ के ठीक आगे कुछ जानवर इस काफिले में फंस गए जिन्हें पुलिसकर्मी हांकते नजर आए। उल्लेखनीय है कि छतरपुर में सड़कों पर घूमने वाले आवारा मवेशी एक बड़ी समस्या बन चुके हैं। इनमें गौवंश के अलावा सुअर भी शामिल हैं जो दिन भर गलियों में विचरण करते हैं। इतना ही नहीं छतरपुर में मवेशियों के कारण कई हादसे और मौत के मामले भी सामने आ चुके हैं। कालांतर में भाजपा और कांग्रेस दोनों की सरकारें रहीं हैं लेकिन इन मवेशियों का निराकरण कभी नहीं हुआ।

RAM KUMAR KUSHWAHA
भाषा चुने »