Please assign a menu to the primary menu location under menu

Saturday, April 20, 2024
बिज़नेस

कोटक बैंक में एलआईसी बढ़ाएगी अपनी हिस्सेदारी, भारती एक्सा लाइफ का नया व्यापार प्रीमियम 33 प्रतिशत बढ़ा

Visfot News

मुंबई
देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) निजी क्षेत्र के कोटक महिंद्रा बैंक में अपनी हिस्सेदारी को बढ़ाकर करीब 10 फीसद करेगी। कोटक महिंद्रा बैंक ने शेयर बाजार को सोमवार को बताया कि बैंक में एलआईसी की हिस्सेदारी बढ़ाने के प्रस्ताव को भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की मंजूरी मिल गई है। बैंक ने बताया कि उसे एलआईसी से इस मंजूरी के बारे में सूचना मिली है। कोटक महिंद्रा बैंक के मुताबिक यह मंजूरी एक साल की अवधि के लिए वैध है। बैंक की चुकता इक्विटी शेयर पूंजी में एलआईसी की हिस्सेदारी को बढ़ाकर 9.99 फीसद करने का प्रस्ताव है। गत 30 सितंबर को बैंक में एलआईसी की हिस्सेदारी 4.96 प्रतिशत थी।   बैंक में हिस्सा बढ़ाने का यह प्रस्ताव निजी क्षेत्र के बैंकों में शेयरों के अधिग्रहण या मताधिकार के लिए आरबीआई की पूर्व-अनुमति लेने के दिशा-निर्देशों के अधीन है। इसके अलावा बाजार नियामक सेबी भी विदेशी मुद्रा विनिमय प्रबंधन अधिनियम के प्रावधानों पर गौर करता है।

भारती एक्सा लाइफ का नया व्यापार प्रीमियम पहली छमाही में 33 प्रतिशत बढ़ा
निजी क्षेत्र की बीमा कंपनी भारती एक्सा लाइफ इंश्योरेंस का नया व्यापार प्रीमियम चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में 33 प्रतिशत बढ़कर 285 करोड़ रुपये हो गया। एक साल पहले की समान अवधि में यह 214 करोड़ रुपये था।   कंपनी ने सोमवार को जारी एक विज्ञप्ति में कहा कि सितंबर 2021 के दौरान उसने अपने भारित नए व्यापार प्रीमियम में 53 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की।  वहीं वित्त वर्ष 2021-22 की अप्रैल-सितंबर अवधि में कंपनी का नवीनीकरण प्रीमियम आठ प्रतिशत बढ़कर 645 करोड़ रुपये हो गया, जो एक साल पहले की अवधि में 594 करोड़ रुपये था। कंपनी की चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में कुल प्रीमियम आय बढ़कर 1,024 करोड़ रुपये हो गई जो इससे पिछले वित्त वर्ष की पहली छमाही में 912 करोड़ रुपये थी। कंपनी के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी पराग राजा ने कहा, 'हमने कई मापदंडों पर स्थिर प्रदर्शन दर्ज किया है और चालू वित्त वर्ष के पहले छह महीनों में अपने नए व्यापार प्रीमियम संग्रह के लिए उच्चतम कारोबारी वृद्धि हासिल की है।'

 

RAM KUMAR KUSHWAHA
भाषा चुने »